ban6.jpg

खेल कूद

'शक्ति-शील-सौंदर्य विभूषित, उत्कर्षों का नाम साहचर्य - दयितावो का भार उठाये, श्रम सेवा का शंख बजाये, अमृतस्य पुत्राः वयं..........'

के मूल मंत्र को ध्यान में रखते हुए अध्यापन के अतिरिक्त यह महाविद्यालय छात्रों को विविध प्रकार खेलों की सुविधाएं प्रदान करता है जिसके लिए महाविद्यालय के पास अपना विशाल क्रीड़ांगन हैं | अनेक इनडोर एवं आउटडोर खेलों के लिए महाविद्यालय के पास आधुनिक उपकरण एवं साजो सामान उपलब्ध है | महाविद्यालय प्रत्येक वर्ष 'खेल महोत्सव' का आयोजन करता है | जिसमें विभिन्न खेलों की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है | खेलों में अभिरूचि रखने वाले छात्र / छात्राएं खेल सम्बंधित जानकारी तथा सुविधाएं प्राप्त करने के लिए प्राचार्य द्वारा नामित क्रीडा निर्देशक से सम्पर्क करें|

छात्र वर्ग - श्री राजीव रत्न श्रीवास्तव (प्रवक्ता शारीरिक शिक्षा)

छात्रा वर्ग - डॉ० विजय लक्ष्मी तिवारी (हिन्दी विभाग)


एन० सी० सी० :-

महाविद्यालय में एन० सी० सी० की भी व्यवस्था है | अतः जो छात्र एवं छात्राएं एन० सी० सी० में प्रवेश लेने के लिए इच्छुक हों, वे निर्धारित तिथि तक आवेदन पत्र देकर इसमे प्रवेश ले सकते है | वर्तमान समय में एन० सी० सी० की इकाई राम लाल अग्रवाल इंटर कालेज सिरसा, इलाहाबाद से सम्बद्ध है |

अनुसाशन समिति :-
'स्वाती पन्थामनुचारेम' (ऋ. 5/51/15)
महाविद्यालय में अनुसाशन बनाये रखने की दृष्टि से अनुसाशन समिति के कार्य निम्नलिखित है-
  • अनुसाशन समिति यह देहेगी कि बिना प्राचार्य कि आज्ञा के महाविद्यालय में कोई भी समारोह आयोजित ना किया जाय |
  • छात्रों कि विविध समस्याओ का समाधान करना |
  • छात्रों के परिचय पत्रों कि व्यवस्था करना |
  • मुख्य अनुसाशन अधिकारी द्वार आवश्यकतानुसार यथासमय समिति कि बैठक बुलाना |
  • छात्रों के आपसी झगड़ो का निपटारा करना तथा अनुसाशन भंग करने वाले को निम्नाकिंत रूप से दण्डित करना-
(अ) अर्थदण्ड (ब) कक्षा में प्रवेश में रोक
(स) महाविद्यालय से प्राप्त आर्थिक सहायता की समाप्ति (द) महाविद्यालय से निलम्बन या निष्कासन |

मुख्य अनुसाशन अधिकारी :- डॉ. विजय लक्ष्मी तिवारी

अनुसाशन अधिकारी :-

1. डॉ. अजिता भटटाचार्या 2. डॉ. महेद्र कुमार जायसवाल 3. डॉ. राजीव रतन तिवारी
4. डॉ. एस. के. द्विवेदी 5. डॉ. मोनोज कुमार त्रिपाठी
परिचय-पत्र :-

महाविद्यालय के प्रत्येक छात्र के पास परिचयपत्र का रहना अनिवार्य है | महाविद्यालय में प्रवेश लेने के पशचात परिचय-पत्र प्राप्ति हेतु छात्र को मुख्य अनुशासन अधिकारी के कार्यालय में सम्पर्क स्थापित करना होगा | कॉलेज में एक मुख्य अनुशासन अधिकारी होगा | मुख्य अनुशासन अधिकारी के साथ दो अनुशासन अधिकारी होंगे | परिचयपत्र खो जाने पर इस आशय का एक प्रार्थना-पत्र मुख्य अनुशासन अधिकारी को देने तथा दस रुपय जमा करने पर दूसरा परिचय-पत्र प्राप्त हो सकेगा |

छात्रवृत्ति :-

समाज कल्याण विभाग द्वारा अनुसूचित जाति/जनजाति, पिछड़ी जाति एवं सामान्य जाति के उन छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करता है जिनकी आय रू.100000 (एक लाख) से कम होती है | ऐसे सभी छात्र प्रवेश लेने के पूर्व प्रवेश के समय ही आय प्रमाणपत्र सम्बंधित तहसील से अवश्य बनवा लें | प्रवेश के समय ही छात्रवृत्ति आवेदन पत्र भी सभी संलग्नको के साथ महाविद्यालय में जमा होंगे | इसके साथ ही छात्रवृत्ति प्राप्त करने के इच्छुक छात्र स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया, शाखा सिरसा में अपना बचत खाता अवश्य खुलवा लें ताकि छात्रवृत्ति आवेदन के साथ खाता संख्या का फोटोस्टेट प्रति संग्लन की जा सके |

अल्म संख्यक कल्याण विभाग से अल्प संख्यको के लिए, बीड़ी श्रमिक मजदूरों के छात्रों के लिए भी छात्रवृत्ति की योजना संचालित है | जो छात्र इस योजना का लाभ उठाना चाहते है | वे इसका आवेदनपत्र अल्पसंख्यक समाज कल्याण विभाग से प्राप्त कर महाविद्यालय से अग्रसरित करा सकते है |

छात्रावास :-

महाविद्यालय में छात्रावास का सुविधा है | छात्रावास में प्रवेश लेने वाले छात्र को प्राचार्य एवं छात्रावास अधिक्षक से सम्पर्क करना चाहिये बी.एड. के प्रशिक्षार्थियों को छात्रावास में रहना अनिवार्य है |

सेमिनार कक्षायें एवं प्रतियोगिता :-

छात्रों के अध्यन को सुचारू रूप से संचालित करने के लिये सेमिनार, संघोष्ठी, कार्यशाला एवं अतिरिक्त कक्षाओं के चलाने का प्रबन्द है | इससे छात्रों के ज्ञान एवं बुद्धि का विकास होता है | वाद-विवाद, व्याख्यान, निबंध, कहानी, काव्य पाठ आदि की प्रतियोगितायें आयोजित की जाती है जिसमें भाग लेने वाले छात्रों को पुरुस्कृत किया जाता है |

विभिन्न परिषदों का गठन :-

महाविद्यालय में कला संकाय में विषयो की समृधि एवं विकास के लिये परिषदों का गठन किया जाता है | सम्बन्धित विषय का प्राध्यापक संरक्षक, सबसे अधिक अंक पाने वाले दो छात्र/छात्रा सदस्य तथा दो सदस्य छात्र/छात्राओं द्वारा चयनित होते है | परिषदों की सदस्यता शुल्क 20/- प्रति छात्र है |

पूरा छात्र परिषद :-

महाविद्यालय में पूरा छात्र परिषद का गठन प्रतिवर्ष किया जाता है | जिसकी अध्यक्षता डॉ. अनीता भटटाचार्य करेंगी | पूरा छात्र मेंनामंकिन छात्र इसके सदस्य होते है | इस परिषद के तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम में सभी छात्र अपने-अपने अनुभव बताते है | तथामहाविद्यालय के विकास में अपना सुझाव भी प्रस्तुत करते है | इसकी सदस्यता शुल्क रू. 20/- प्रति छात्र है | इसका सम्मलेनयथासम्भव नवम्बर के अन्तिम सप्ताह में रविवार को आयोजित करने का प्रस्ताव है |

शिक्षक - अभिभावक संघ :-

शिक्षक-अभिभावकों से मिलकर महाविद्यालय की गतिविधिया पर प्रकाश डालते है तथा अभिभावकों से मिलकर महाविद्यालय की गतिवधियों पर प्रकाश डालते है तथा अभिभावकों से अपेक्षा करते है कि महाविद्यालय का वातावरण समुत्रन बनाने के लिये अप्मना प्रस्ताव प्रस्तुत करे और यथा योग्य सहायता प्रदान करें | इसकी सदस्यता शुल्क रू. 30/- प्रति छात्र है |इस परिषद का सम्मलेन भी यथासम्भव सितम्बर माह में किया जयेगा |

शैक्षिक-भ्रमण :-

छात्र/छात्राओं कि शैक्षिक भ्रमण हेतु जाना आवश्यक है | इससे उनके ज्ञान में वृद्धि होती है और सुदूर क्षेत्रों के वातावरण से परिचित होकर वहां कि भाषा, संस्कृति, रहन-सहन आदि का व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त होता है | वैसे तो भूगोल विभाग के छात्रों को बी.ए. तृतीय वर्ष में भौगोलिक भ्रमण करना आवश्यक है जिस पर उन्हें अंक निर्धारित किये गए है | फिर भी अन्य विषयो के छात्र भी शैक्षणिक भ्रमण करना आवश्यक है जिस पर उन्हें अंक निर्धारित किये गये है | फिर भी अन्य विषयों के छात्र भी शैक्षणिक भ्रमण में भाग लेते है | बी.एड. के छात्रों को भी शैक्षणिक भ्रमण आवश्यक है |

सेवर्स रेंजर्स :-

महाविद्यालय में स्काउट एण्ड गाइड निदेशालय द्वारा रोवर्स रेंजर्स का भी गठन करने का प्रस्ताव है | जो छात्र/छात्राये इसमें भाग लेना चाहती है वे निर्धारित शुल्क जमा कर इसका सदस्य बन सकते है | इसके प्रभारी डॉ महेंद्र कुमार जायसवाल है |

एन0 एस0 एस0 :-

महाविद्यालय में छात्र/छात्राओ में सम्बन्धित विकास के लिए एन0 एस0 एस0 कि इकाई स्थापित करने का प्रयास किया जा रहा है | छत्रपति साहू जी महाराज विश्वविद्यालय में एन0 एस0 एस0 का कार्यालय स्थापित हो जाने पर इसकी इकाई महाविद्यालय में भी शामिल हो जायेगी |

साहित्यक, संस्क्रेतिक एवं अन्य पाठ्य सहगामी क्रियाएँ :-

छात्र/छात्राओं की मानसिक एवं भावनात्मक प्रतिभा की परख के लिए महाविद्यालय में समय-समय पर वाद विवाद, निबन्ध, कथा-पप्रतियोगताओ, गोष्ठियों, नाटक तथा जयन्तियो का आयोजन डॉ. श्रीमती विजय लक्ष्मी डॉ. अजिता भटटाचार्या के निर्देशन में किया जाता है | 'महाविद्यालय महोत्सव' प्रतिवर्ष एक सप्ताह के लिए मनाया जाता है | जिसमे छात्र-छात्राओं द्वारा खेल कूद, छात्राओं द्वारा मेला, विभिन्न साहित्यक गोष्ठियों, संस्क्रेतिक कार्यक्रम, कवि सम्मलेन एवं परितेषिक वितरण का आयोजन किया जाता है | यु.जी.सी. द्वारा रेमिडियल कोचिंग/कोर्से चलाने की अनुमति दी गयी है जिससे अनुसूचित जाति/जनजाति के छात्रों के लिए विशेष रूप से अध्ययन की व्यवस्था है |

महाविद्यालय महोत्सवो में अनेक महान विभूतियों ने उपस्थित होकर छात्रों का उत्सावर्धन किया है | इनमे प्रमुख रूप से शामिल है-पूर्व प्रमुख सचिव - महामहिम राज्यपाल श्री राय सिंह, आई. ए. एस., प्रो. बी. एन. अस्थाना, पूर्व कुलपति, प्रो. एस.एस. कटियार, कुलपति छत्रपति साहू जी महाराज विश्वविद्यालय, कानपूर, प्रो. के. बी. पांडेय, पूर्व अध्यक्ष लोक सेवा आयोग, उ.प्र. श्री गिरीश वर्मा, पूर्व निबन्धक, उच्च न्यायालय इलाहाबाद, श्री श्याम सुंदर शर्मा, पूर्व उच्च शिक्षा अध्यक्ष मंत्री उ.प्र. सरकार, श्री हिमांशु कुमार, आई.ए.एस.,उपा. इ.वि.प्रा., डॉ. मियांजन,निदेशक उच्च शिक्षा, डॉ. अजब सिंह यादव, अध्यक्ष, माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उ.प्र., श्री शिवशंकर सिंह, आई.ए.एस., पूर्व निदेशक उच्च शिक्षा आदि |

साईकिल स्टैण्ड :-

एसे छात्र जो महाविद्यालय में साईकिल लेकर आते है उन्हें अपनी साईकिल स्टैण्ड पर ही रखना अनिवार्य है | साईकिल/स्कूटर महाविद्यालय परिसर के अंदर स्टैण्ड पर ना रखें अन्यथा खो जाने पर छात्र स्वंय उत्तरदायी होंगे |

Maintained & Developed by Crest Logix Softserve Pvt. Ltd. - 2015-20